Monday, 29 May 2017

बीजेपी की महिला नेता की गुंडई, सिपाही का कॉलर पकड़ा और फिर..

बांदा। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कई बार इंटरव्यू में इस बात को दोहराते रहे हैं कि किसी को भी राज्य के अंदर कानून हाथ में लेने नहीं दिया जाएगा। लेकिन यहां उन्हीं की पार्टी की महिला नेता ने  पुलिस स्टेशन के अंदर घुस एक युवक की जमकर पिटाई की। पुलिसकर्मियों ने जब उसे ऐसा करने से रोकना चाहा तो महिला नेता पुलिस से ही लड़ पड़ीं। यही नहीं पुलिस सिपाहियों के साथ जमकर मारपीट और गालीगलौज की, साथ ही वर्दी उतरवाने की धमकी दे डाली। ड्यूटी के दौरान पिटने वाले सिपाही अनुराग सिंह को हाथ और गर्दन में चोटें आयी हैं।

बीजेपी नेता नहीं रुकी उन्होने कहा आगे जरूरत पड़ी तो पुलिस को फिर मारूंगी। महिला नेता दो घंटे से अधिक समय तक हंगामा करती रही। पुलिस चौकी के सामने भी तमाशा देखने वालों की भीड़ लग गयी। बीचबचाव कराने आयी महिला थानाध्यक्ष को भी नहीं बख्शा और जमकर बत्तमीजी की। जब काफी देर तक मामला शांत नहीं हुआ तो बीजेपी के बड़े नेताओं को खबर देनी पड़ी, मौके में सदर विधायक प्रकाश द्विवेदी आये लेकिन मीडिया के कैमरों को देख मामला सुलझाने की नसीहत दे चलते बने। सत्तापक्ष से जुड़ा मामला होने के कारण पुलिस ने भी समझौता कराके पल्ला झाड़ लिया। पुलिस पर अपना रौब झाड़ने वाली कौन है यह बीजेपी महिला नेता आइये आपको बताते हैं।

दरअसल बीजेपी की नगर मंत्री पार्वती गुप्ता के भाई की शहर के अलीगंज इलाके में दुकान है, पड़ोस के एक व्यक्ति के साथ इनका किसी बात को लेकर झगड़ा हो गया। उस व्यक्ति को रास्ते भर पीटते हुए महिला नेता का भाई अलीगंज पुलिस चौकी लाया और इसकी सूचना अपनी नेता बहन को दे दी। पुलिस चौकी में मौजूद सिपाहियों ने पिट रहे व्यक्ति को छुड़ा कर चौकी के अंदर कमरे में बैठा दिया। 
विरोधी पक्ष को यह बात नागवार गुजरी। तब तक बीजेपी महिला नेता भी अलीगंज पुलिस चौकी जा पहुंची। अपने भाई के साथ महिला नेता कमरे के अंदर बिठाये गए व्यक्ति को घुसकर पीटने लगी। सिपाहियों ने इसका विरोध किया तो उनके साथ भी मारपीट की। वर्दी उतरवाने की धमकी भी दी। ड्यूटी में तैनात सिपाही अनुराग सिंह ने अपने हाथ और गर्दन में चोटें दिखाई। मामला तूल पकड़ता देख बीजेपी नेताओं का वहां जमघट लग गया। विधायक भी वहां जा पहुंचे। सत्तापक्ष से जुड़ा मामला होने के कारण पुलिस ने भी किसी तरह समझौता करा पल्ला झाड़ना मुनासिब समझा।

No comments:

Post a Comment