Thursday, 8 June 2017

गैलिलियो और दलित

गैलिलियो ने कहा था आज भी सूर्य के चारों ओर पृथ्वी ही घूम रही है,.कितने पोप आये और चले गए,कितने सत्ताधारी विश्व विजेता आये और चले गए,पर कोई भी शक्ति सूर्य को पृथ्वी के चारो ओर नहीं घुमा पायी,अकेले गैलिलियो के आगे,समस्त इसाईयत,समस्त शक्ति हार गयी,पर आज भी पृथ्वी ही घूम रही है सूर्य के चारो ओर...और सदियों -शताब्दियों तक घुमती रहेगी,और रहेगा गैलिलियो का सिद्धांत ,ये है सत्य….
सत्य सदैव जिंदा रहता है,आज गैलिलियो का सिद्धांत प्रमाणिक हो चूकी है जो पोप और चर्च गैलिलियो के सिद्धांत , विचारों का विरोध कर रहे थे आज सैकड़ों सालों के बाद उसी चर्च में वर्ष 2008 को गैलिलियो की मूर्ति स्थापित की गयी है और उसी चर्च ने गैलिलियो के सिद्धांत को मान्यता दी है |
वर्तमान पोप ने ,पूर्व में गैलिलियो के साथ किये गए अमानुषिक अत्याचार के लिए सार्वजनिक माफ़ी भी मांगी हैं !!!
भारत वर्ष में हजारों वर्षों तक ब्राह्मणों ने शूद्रों पर अमानुषिक अत्याचार किया हैं ,क्या चर्च की तरह एक बार भी इसके ठेकेदार मिलित रूप से अपनी पूर्वजों द्वारा किये गए अत्याचार पर पश्चाताप करने का हिम्मत किया ! क्या मन में क्षमा मांगने की शक्ति आज भी इनमें हैं ?

No comments:

Post a Comment