Thursday, 8 June 2017

बिहार टॉपर घोटाले का मुख्य आरोपी दो बार लड़ चुका है BJP के टिकट पर चुनाव, पार्टी चुप

पटना। बिहार टॉपर घोटाला मामले में बिहार सरकार को घेरने वाली बीजेपी बैकफुट पर नजर आ रही है। बताया जा रहा है बिहार टॉपर घोटाले का मुख्य आरोपी बीजेपी के टिकट से दो बार चुनाव लड़ चुका है। बिहार बोर्ड की 12वीं की परीक्षा में कला वर्ग से टॉप करने वाले गणेश कुमार समस्तीपुर जिले के ताजपुर स्थित रामनंदन सिंह जगदीश नारायण इंटर विद्यालय से पास हुए हैं।
इस विद्यालय के सचिव जवाहर प्रसाद सिंह और उनके बेटे व स्कूल के प्रिंसिपल अभितेन्द्र कुमार सिंह को पुलिस खोज रही है। दोनों बाप-बेटे फरार हैं। पुलिस गणेश कुमार समेत पांच लोगों को मामले में गिरफ्तार कर चुकी है।
खबर के अनुसार, जवाहर प्रसाद सिंह बीजेपी के टिकट पर लगातार दो बार 1985 और 1990 में कल्याणपुर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ चुके हैं। सिंह ने 1974 के जेपी आंदोलन में भी भाग लिया था। सूचना के मुताबिक सिंह के चाल, चरित्र और चेहरे की जानकारी बीजेपी के कई नेताओं के साथ-साथ बिहार बीजेपी के अध्यक्ष नित्यानन्द राय को भी है।
बिहार से जुड़े हर घोटाले में राजद तथा जदयू के नेताओं के शामिल होने के आरोप पर लालू प्रसाद यादव और नीतीश कुमार को घेरने वाली बीजेपी अब अपने नेता जवाहर प्रसाद सिंह पर बोलने से परहेज कर रही है। बिहार बीजेपी के प्रवक्ता संजय टाइगर ने जवाहर प्रसाद सिंह पर लगे आरोपों पर कहा, ‘‘जदयू के लोग अपनी सरकार की कमजोर छिपाने के लिए उजूल-फजूल बात कर रहे हैं। हमने गिरफ्तार करने से किसी को रोका है क्या? पूरी बिहार सरकार घोटालेबाजों के चंगुल में है।’’
आपको बता दें कि साल 2016 के टॉपर घोटाले में अपने नेता का नाम आने पर जदयू ने उन्हें पार्टी से निकाल दिया था। जदयू नेता की पत्नी उषा सिंहा का नाम जब सामने आया ही था कि बीजेपी नेताओं ने उन्हें जदयू से निकालने की मांग शुरू कर दी थी। अपनी और पार्टी की छवि के लिए सचेत सीएम नीतीश कुमार ने उषा सिंह को छह साल के लिए पार्टी से निकाल दिया था। अब खुद बीजेपी यू-टर्न लेती प्रतीत हो रही है।
बिहार टॉपर घोटाला 2016 का कथित किंगपिन राजद समर्थक बताया जाने वाला बच्चा राय था पर सूत्रों की मानें तो असली बॉस जनता दल (यू) से सांठगांठ रखने वाले लालकेश्वर सिंह हुआ करते थे। जेल में बंद सिंह की पत्नी उषा सिंह घोटाले की तीसरी अहम किरदार थीं, जो 2010 से 2015 तक नीतीश कुमार की पार्टी की धाकड़ विधायक हुआ करती थीं। 2016 के टॉपर घोटाले में उषा को भी जेल जाना पड़ा था लेकिन फिलहाल वो जमानत पर बाहर हैं।

No comments:

Post a Comment