Thursday, 8 June 2017

‘बहन जी’ को राज्यसभा में भेजेंगे लालू प्रसाद यादव!


नई दिल्ली। बीएसपी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती का राज्यसभा में कार्यकाल अगले साल खत्म हो रहा है। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव में उन्हें सिर्फ 19 एमएलए जीत पाए हैं। ऐसे में उन्हें राज्यसभा पहुंचाने के बारे में राजद में चर्चाएं तेज हो गई हैं। खबर मिली है कि लालू यादव उन्हें संसद में भेजने का विचार कर रहे हैं। उनका मानना है कि संसद में मायावती का होना सामाजिक न्याय और धर्मनिर्पेक्षता के लिए बहुत जरूरी है।
बहुजन समाज पार्टी के अभी भले ही कम एमएलए हैं लेकिन यूपी में 22 प्रतिशत वोटों के साथ बीएसपी अभी भी उत्तर भारत की एक बड़ी पार्टी बनी हुई है। बीएसपी को राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा भी प्राप्त है।
मायावती को दोबारा निर्वाचित होने के लिए 37 विधायकों की जरूरत होगी, लेकिन यूपी चुनाव में उनकी पार्टी को सिर्फ 19 सीटें ही मिली हैं। दो अप्रैल 2018 को मायावती सहित यूपी के 10 राज्यसभा सदस्यों की सदस्यता खत्म होगी।
चुनावी अंकगणित के मुताबिक राज्यसभा की एक सीट जीतने के लिए कम से कम 37 विधायकों का वोट जरूरी होगा। बीजेपी को 325 सीटें मिली हैं, इस हिसाब से बीजेपी अपने 8 नेताओं को तो आसानी से राज्यसभा भेज देगी। नवें नेता को राज्यसभा भेजने के लिए बीजेपी को 8 और विधायकों का जुगाड़ करना होगा।
इसी तरह एसपी सिर्फ एक नेता को राज्यसभा भेजने की स्थिति में होगी और इसके बाद एसपी के पास 10 वोट अतिरिक्त होंगे। अगर एसपी की सहयोगी कांग्रेस के वोट भी जोड़ लें तो इसके पास एक राज्यसभा सीट जीतने के बाद 17 वोट बचेंगे। ऐसे में लालू प्रसाद यादव की पहल मायावती को राज्यसभा पहुंचाने में कारगर होगी।
इस मामले पर जानकारी देते हुए वरिष्ठ पत्रकार दिलीप मंडल ने लिखा है….
– लालू जी की बहनजी से बात हुई। बहनजी बिहार से राज्य सभा में आ सकती हैं।
– लालू जी देश भर में ग़ैर भाजपा शक्तियों को जोड़ रहे हैं।
– गुजरात में कांग्रेस के समर्थन में सभी पार्टियाँ प्रचार के लिए जाएगी।
– राहुल गांधी उनके संपर्क में हैं।
– उत्तर भारत में बीजेपी को रोकने का एकमात्र मॉडल लालू जी के पास है। यह सभी मान रहे हैं।
– लालू ही हैं, जिनके नाम से RSS को बुखार चढ़ जाता है। हाफ पेंट गीली हो जाती है।
– बिहार में गठबंधन अटूट बना हुआ है।
क्या इतनी वजह काफ़ी नहीं है, जिसके लिये लालू प्रसाद के खिलाफ छापे डाले जाएँ?

No comments:

Post a Comment