Friday, 9 June 2017

कजाकिस्तान में मोदी और नवाज की हुई मुलाकात

अस्ताना
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के बीच कजाकिस्तान की राजधानी अस्ताना में मुलाकात होने की खबर है। सूत्रों के मुताबिक, शंघाई को-ऑपरेशन ऑर्गनाइजेशन (SCO) शिखर सम्मेलन से ठीक पहले लीडर्स लाउंज में दोनों नेताओं ने एक दूसरे का अभिवादन किया।

आपको बता दें कि यह जानकारी सूत्रों के हवाले से सामने आई है। दोनों नेताओं के मिलने की आधिकारिक जानकारी अभी नहीं दी गई है। सूत्र बता रहे हैं कि चूंकि पाक प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की ओपन हार्ट सर्जरी के बाद दोनों नेताओं की यह पहली मुलाकात थी, ऐसे में मोदी ने नवाज से उनकी सेहत के बारे में पूछा। साथ ही उनकी मां और परिवार का हालचाल भी जाना।

बता दें कि नवाज और मोदी के बीच मुलाकात को लेकर कई तरह की अटकलें लगाई जा रही थीं। कहा जा रहा था कि दोनों के बीच अलग से कोई औपचारिक मुलाकात नहीं होगी। बुधवार को विदेश मंत्रालय ने कहा था कि अभी तक दोनों प्रधानमंत्रियों की मुलाकात के लिए कोई शेड्यूल तय नहीं है। मोदी और शरीफ 2015 में जब ब्रिक्स और एससीओ की बैठक के वक्त रूस के उफा में मिले थे, उसके बाद ऐसा लगा था कि दोनों देशों के संबंध सुधरेंगे। आगे चलकर व्यापक द्विपक्षीय बातचीत पर भी सहमति बनी। लेकिन 2016 की शुरुआत में पठानकोट अटैक से माहौल ऐसा बना कि रिश्ते बिगड़ते चले गए। 2016 में जुलाई के दौरान एक बार फिर नवाज और मोदी शंघाई सहयोग संगठन की बैठक के दौरान आमने-सामने थे, लेकिन कोई द्विपक्षीय बैठक नहीं हुई थी। आज के हालात तब से भी ज्यादा खराब समझे जा रहे हैं।

चीन के राष्ट्रपति से मुलाकात मुमकिन
अस्ताना में मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच बातचीत की संभावना है। विदेश मंत्रालय के अधिकारियों ने इसकी पुष्टि की है। हाल में चीन ने सीमा विवाद पर मोदी के बयान का स्वागत किया है। मोदी ने कहा था कि चीन के साथ सीमा विवाद के बावजूद दोनों देशों की तरफ से 40 साल में एक भी गोली नहीं चली। कुछ समय पहले दोनों देशों के बीच तनाव तब बढ़ गया, जब भारत ने चीन की ओर से आयोजित बेल्ट एंड रोड फोरम का बायकॉट किया और तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा अरुणाचल प्रदेश पहुंचे। न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (NSG) में भारत की एंट्री और आतंकवादी मसूद अजहर के मामले में चीन के अड़ंगे पर तनाव पहले से ही कायम है।

भारत और पाक SCO में
2001 में स्थापित शंघाई सहयोग संगठन (SCO) में पहली बार भारत और पाकिस्तान को भी बतौर मेंबर शामिल किया जा रहा है। भारत इस संगठन में 2005 से ऑब्जर्वर है। 2014 में इसने संगठन की सदस्यता के लिए आवेदन किया था। ताजा बैठक में इस पर मुहर लगने की उम्मीद है।
Source

No comments:

Post a Comment